बैंक में नौकरी पाने के लिए क्या करें

बैंक में नौकरी पाने के लिए क्या करें। हर कोई प्राइवेट नौकरी से ज्यादा सरकारी नौकरी को महत्व देता हैं। दे भी क्यों ना, सरकारी नौकरी इतने सुविधा जो देती है। सरकारी नौकरी आपको सुरक्षा प्रदान करती है, एक बार सरकारी नौकरी होने के बाद आप पूरी तरह निश्चित हो जाते है कि अब आपकी नौकरी कहीं नहीं जाएगी। जबकी यह आश्वासन आपको प्राइवेट जॉब में नहीं मिलती है। 

आजकल के छात्रों में बैंक में नौकरी करने का रूझान ज्यादा देखने को मिलता है। कहा जाता है कि बैंक की नौकरी सबसे आरामदायक नौकरियों में से एक है। बैंक की नौकरी में आपको ज्यादा भाग-दौड़ भी नहीं करनी पड़ती है। इस जॉब में, नौकरी करते वक्त कर्मचारी को काफी अच्छी सैलरी तो मिलती ही है और नौकरी से रिटायरमेंट के बाद पेंशन के रुप में अच्छा पैसा मिलता है। इसलिए छात्रों को बैंक की नौकरी ज्यादा आकर्षक बनाती है।अब सवाल यह है कि बैंक में नौकरी कैसे पाया जाया, इलके लिए क्या करे, इस क्षेत्र में कैसे जाये,सरकारी बैंक में जॉब कैसे मिलेगा,प्राइवेट बैंक में जॉब कैसे मिलेगा, बैंकिंग में करियर कैसे बनाये इस तरह के सभी सवालो के जवाब आपको यहां मिल जाएगा। 

प्राइवेट हो या सरकारी बैंक, हर साल आलग-आलग पोस्ट के लिए भर्ती निकालती रहती है। बैंक में नौकरी करने के लिए 20-30 वर्ष की आयु होनी चाहिए। कोई भी  स्टूडेंट बिना बैंक का परीक्षा दिए बैंक में नौकरी नहीं पा सकता है। सरकारी बैंक में भर्ती के लिए जो परीक्षा लिया जाता है, उसका आयोजन IBPS( Institute of Banking Personnel Selection) करता है। इसके अलावा भारत का सबसे बड़ा बैंक SBI में भर्ती के लिए, SBI खुद अपना परीक्षा आयोजन करती है। सभी बैंक के सभी रिक्त पद भर्तियों की जानकारी IBPS की वेबसाइट लिंक पर मिल जाती है। इस वेबसाइट से आप सभी सरकारी बैंक के बैंकिंग जॉब के लिए आदेदन भी कर सकते है। रिजर्व बैंक और स्टेट बैंक ऑफ इंडिया यह दोनों बैंक परीक्षा और सिलेक्सन खुद अलग से कराते है। इन दोनों बैंक की भर्ती की जानकारी उनके वेबसाइट पर आसानी से मिल जाएगी। यदि आप प्राइवेट बैंक में नौकरी करना चाहते हैं तो आपको जॉब पोर्टल्स और अख़बार में छपने वाले सभी विज्ञापनों पर नजर बनाए रखना होगा। प्राइवेट बैंक समय-समय पर रिक्रूटमेंट के लिए विज्ञापन देते रहते हैं। भारत में कई कोऑपरेटिव बैंक लिखित परीक्षा और इंटरव्‍यू के जरिए पीओ और  क्लर्क की पोस्ट के लिए रिक्रूटमेंट करते हैं। कोपरेटिव बैंक IBPS और SBI एग्जाम की तुलना में यह एग्जाम कम कंपेटिटिव होता है।

यदि आप बैंक में नौकरी करना चाहते है तो इसके लिए आपको पहले से तैयारी करनी होगी। 

  • सबसे पहले आपको प्लानिंग करनी होगी। आपको बैंक की किस सेक्टर में जॉब करनी है। उस जॉब के लिए क्या क्या करना जरुरी है।
  • कहते है अगर काबलियत आपके अंदर है तो आपके कोचिंग कि जरुत नहीं है। यदि आप बैंकिंग की पढाई शुरू करने से पहले कोचिंग कर लेते है तो आपको एक आईडिया मिल जाएगा कि आपको किस ओर जाना है। 
  • कंप्यूटर स्टडी पर भी फोकस करे क्योंकि आज के दौड़ में बिना कंप्यूटर स्टडी के बैंक में चपराशी की भी जॉब नहीं मिल सकता है। यहां तक की आपका परिक्षा भी कंप्यूटर द्वारा ही होगा। 
  • सेल्फ स्टडी और GK पर ज्यादा ध्यान दें क्योंकी हर क्षेत्र में GK सबसे आगे है। इससे पश्न आते ही आते है। 
  • पुराने प्रश्नपत्रिकाए जमा करे और उनके सभी प्रश्नों को बिना चिट किये हल करे,अगर किसी प्रश्न का उत्तर ना मिले तो इन्टरनेट का सहारा ले।
  • यदि आप परीक्षा पास कर लेते है तो आपको इंटरव्यू  के लिए बुलाया जाएगा। इंटरव्यू के दौरान आपको परखा जाता है की आप उस नौकरी के काबिल हो या नहीं। इसलिए आप अपने आत्मविश्वास को बनाए रखें और इंटरव्यू में पूरा कॉन्फिडेंस के साथ बोलने का एटीटयुड बनाये।
  • तर्कशक्ति बढ़ाने का प्रयास करे क्योंकि परीक्षा और इंटरव्यू के दौरान आपके सामने कुछ ऐसे सवाल आयेंगे जो आपको सोचने को मजबूर कर सकते है इसलिए इसकी तैयारी आप पहले से ही करके रखे।
  • बैंकिंग क्षेत्र में जितना महत्व एकाउंटिंग-गणित को है उतना ही महत्व इंग्लिश का भी है इसलिए आपको गणित और इंग्लिश को मजबूत बनाए।

12वीं के बाद बैंक में नौकरी

डाटाइंट्रीओपरेटर:  इसमें डाटा दिया जाता है जिसको कंप्यूटर में डालना होता है, टाइपिंग वर्क होता है। डाटा इंट्री में इनफार्मेशन को अपडेट करना होता है। जैसे कि बैंक में जितने भी फॉर्म भरे जाते है कस्टमर की डिटेल के लिए, उन डिटेल को कंप्यूटर में स्टोर करना होता है।

कंप्यूटरओपरेटर: कंप्यूटर और बाक़ी मशीन को कंट्रोल और मैंटेन करना होता है। सारे रिकॉर्ड बनाना, डाटा बैकअप लेना, सॉफ्टवेयर चेक करना और प्रिंटर में पेपर लोड करना भी एक कंप्यूटर ओपरेटर का काम होता है।

 सेल्स: फील्डवर्क करना होता है इसमें कि पोटेंशियल कस्टमर्स तक प्रोडक्ट सेल करना। जैसे कि क्रेडिट कार्ड सेल करना, बैंक अकाउंट ओपन करना इत्यादि। इसके लिए आपकी कम्युनिकेशन और मार्केटिंग स्किल बहुत अच्छी होनी चाहिए।

 फ्रंटएंडओपरेटर: इसमें कस्टमर केयर एक्सीक्यूटिव को कस्टमर के प्रश्नों को कॉल या ईमेल के जरिये सुलझाया जाता है। जैसे एक कॉल सेंटर होता है। 

बैकएंडओपरेशन: इसमें एडमिनिस्ट्रेटिव काम जैसे, ऑफिस फंक्शनिंग मैनेज करना, डाक्यूमेंशन करना।

योग्यताक्याहोनीचाहिए– 

किसी भी स्ट्रीम से 12वीं पास होना चाहिए। कंप्यूटर की जानकारी या डिप्लोमा की डिग्री, कम्युनिकेशन स्किल अच्छी होनी चाहिए, डाक्यूमेंशन स्किल और सामान्य अंग्रेजी का ज्ञान, साथ ही मार्केट कि जानकारी हो।  

स्नातककेबादबैंकमेंनौकरी

किसी भी मान्यता प्राप्त संस्था द्वारा स्नातक करने के बाद बैंकिंग क्षेत्र में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते है| इसके लिए IBPS द्वारा आयोजित CWE कोमन रिटर्न परीक्षा को उतीर्ण करना होता है| क्लर्क, परिवीक्षाधीन अधिकारी (PO), प्रबंध परीक्षार्थी (MT), विशेषज्ञ अधिकारी (SO) के विभिन्न पदों के लिए अपने विषयों से सम्बंधित पद के लिए आवेदन कर सकते है|

बैंक परीक्षा के विषय-

  • सामन्य ज्ञान
  • मात्रात्मक योग्यता और संख्यात्मक तर्क
  • तार्किक प्रश्न
  • कंप्यूटर का ज्ञान
  • अंग्रेजी

बैंकमेंनौकरीकेलिएपरीक्षापैटर्न

1. सरकारी बैंकों में भर्ती आमतौर पर तीन चरणों में की जाती है| प्रारम्भिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार|

2. प्रारम्भिक परीक्षा में बैंक में नौकरी के लिए उपरोक्त विषयों से 100 अंक के लिए 100 प्रश्न होते है समय 1 घंटा होता है|

3. मुख्य परीक्षा में इन्ही विषयों से 200 अंक के लिए 150 प्रश्न होते है समय 3 घंटे होता है|

4. साक्षात्कार में आप की बुधि, कौशल और मानसिकता का मूल्यांकन होता है| 

5. 80% आप की परीक्षा अंक और 20% आप के साक्षात्कार के आधार पर उम्मीदवार का चयन होता है|

इस तरह के अन्य कोर्स के बारे में जांने के लिए, मापागुरु कोचिंग वेब्सायट में देखें

Also read our blog on फोटोग्राफी में है करियर, कमाएं नाम और पैसे|

mapaguru logo

Leave a comment