फोटोग्राफी में है करियर, कमाएं नाम और पैसे

आज हम सभी डिजिटल युग में जी रहे है। जब बात डिजिटल युग की है तो स्मार्ट फोन सब के पास होगा और स्मार्ट फोन है तो कैमरा भी होगा। जब कैमरे कि बात करे तो हर कोई फोटो क्लिक करता है और सोशल मीडिया पर तारीफे भी लुटता है। क्यों नहीं इस पर प्रोफेशनली फोटोग्राफी की जाएं। जी हां हम बात कर रहे फोटोग्राफी में कैरियर बनाने की। 

फोटोग्राफी हमेशा से ही एक डिमांडिंग करियर ऑप्शन रहा है। आधुनिक और डिजिटल कैमरे के आने से अब फोटोग्राफी पहले से ज्यादा आसान हो गई है। आज फोटोग्राफी न सिर्फ एक ग्लैमर वाला करियर ऑप्शन है बल्कि इसमें नाम और पैसा भी अच्छा कमाया जा रहा है। आज हर छोटे-बड़े आयोजनों में, मीडिया चैनल, अखबार, ऑनलाइन पोर्टल, ट्रेवल पोर्टल, वाइल्ड लाइफ फोटोग्राफी, फूड फोटोग्राफी, फैशन फोटोग्राफी, लाइफ स्टाइल सेगेमेंट इत्यादि के अलावा अन्य कई जगह फोटोग्राफी की डिमांडिंग बढ़ रही है। आज कि तारीक में फोटोग्राफर  की कमी मार्केट में नहीं हैं, लेकिन अच्छे टैलेंट की बहुत कमी है। फोटोग्राफी एक ऐसा प्रोफेशन है, जिसमें अगर आपके पास कोई फॉर्मल एजुकेशन ना भी हो तो भी आप एक बेहतर फोटोग्राफर बन सकते हैं। फोटोग्राफी के बारे में कहा जाता है कि ये आर्ट कम साइंस ज्यादा है, इसलिए इसके बारीकियों को सीखना जरुरी है। यदी आप फोटोग्राफी के शौकिन, प्रकृति से प्यार, क्रिएटीव माइंड और थोड़ी बहुत भी फोटोग्राफी की समझ है तो आप आसानी से किसी भी फोटोग्राफर के साथ रह कर भी सीख सकते हैं, और एक अच्छे फोटोग्राफर बन कर ऊभर  सकते हैं।

आप अपने स्मार्ट फोन के कैमरे के साथ फोटोग्राफर के रुप में शुरुआत कर सकते है। फोटोग्राफी में कैरियर बनाने से पहले से इन बातों को अच्छे से समझ ले। फोटोग्राफी के लिए आपके पास क्या योग्यता होना चाहिए, आपको किस फिल्ड में रुची है, सैलरी कितनी होगी इत्यादि अच्छे से जाने और समझें। 

फोटोग्राफी के लिए करियर योग्यता

प्रोफेशनल फोटोग्राफर बनने के लिए जरूरी है कि आपमें फोटोग्राफी के माहौल को पढ़ने और अपनी रचनात्मकता के जरिये किसी क्षण को कैमरे में कैद करने की कला होनी चाहिए। यदि आप के अंदर वो जज्बा है की अपने कल्पना शक्ति को एक फोटो में उतार सकें तो आप एक बेहद कामयाब फोटोग्राफर बन सकते हैं। यह एक ऐसी फील्ड हैं जहां हर कोई फोटोग्रफर है, लेकिन आपके मौलिक विचार और कल्पना शक्ति ही आपको पहचान देगी। इस के लिए किसी भी तरह की योग्यता की जरूरत नही है। लेकिन फिर भी आप इसके लिए कोई प्रोफेशनल कोर्स करना चाहते है तो 12वीं के बाद इसके कई तरह के कोर्स में एडमिशन लेकर प्रोफेशनल फोटोग्राफी सीख सकते है। 12वीं के बाद फोटोग्राफी में कई तरह के डिग्री, डिप्लोमा और सर्टिफिकेट कोर्स होते है उनमें दाखिला लिया जा सकता है। इसके अलावा आपको फोटोशॉप जैसे सॉफ्टवेयर का भी ज्ञान होना जरूरी है ताकि अपनी फोटोग्राफी स्किल को और अधिक निखारा जा सके। इस क्षेत्र में ट्रेनिंग बेशक आपकी कला को निखारेगी, लेकिन फोटोग्राफी के लिए कल्पनाशीलता जैसे जन्मजात गुण आवश्यक हैं। एक प्रसिद्ध फोटोग्राफर ने कहा है कि फोटोग्राफर बनते नहीं पैदा होते हैं।

फोटोग्राफी में रोजगार की अवसर

  • विज्ञापन अथवा फैशन फोटोग्राफी– हर एड एजेंसी को कुशल फोटोग्राफरों की आवश्यकता होती है। वहीं फैशन फोटोग्राफी भी इसी का हिस्सा है लेकिन इसमें तकनीक से ज्यादा परिधानों की खुबसूरती को उजागर किया जाता है।
  • कला और फिल्म– फोटोग्राफी की इस शाखा में भी प्रोफेशनल फोटोग्राफरों की काफी मांग रहती है फिल्म मेकिंग के शुरूआत से इसके प्रदर्शन तक सारी गतिविधियां कैमरे में कैद की जाती है।
  • साइंस अथवा तकनीक– फोटोग्राफी की इस शाखा में भी बहुत स्कोप है आज टेक्नोलॉजी से लेकर मेडिकल साइंस तक में फोटोग्राफरों की काफी डिमांड है।
  • वाइल्ड लाईफ– यदि आपको प्राकृति और जानवरों से प्यार है तो यह फिल्ड आपके कैरियर के लिए अच्छा होगा। इस ऱिल्ड में एडवेंचर के साथ खतरा भी है। वाइल्डलाईफ फोटोग्राफी में आपको घंटों बिताने के बाद एर प्रफेक्ट शॉट मिलती है।
  •  फोटो जर्नलिज्म– इसमें आप प्रिंट, इलेक्ट्रॉनिक और इंटरनेट मीडिया के लिए फोटोग्राफी करते है। 
  • इवेंट फोटोग्राफी– इस फोटोग्राफी में आप किसी कंपनी और खुद का स्टूडियों खोलकर किसी शादी या पार्टी समारोह में क्लिर कर सकते है। 
  • लैंडस्केप फोटोग्राफी– इस फोटोग्राफी में हरे-भरे खेत, चमचमाता पानी, कुंआ, एकर भूमि और अनचाहे शहर की ज़िंदगी, पहाड़ों और वादियों की सैर उसका मनचाहा फोटो क्लिक करने का अवसर मिलता है। 
  •  नाइट फोटोग्राफी– रात में प्रकाश की अनुपस्थिति के दौरान फोटोग्राफी करना बहुत अधिक चुनौतीपूर्ण  और साथ ही रोमांचक भी होती है। कहा जता है की यह हर किसी के बस की बात नहीं है। क्योंकि कभी-कभी फोटोग्राफर्स किसी चीज़ की फोटो क्लिक करने के लिए कई रात लग जाती है। रात की फोटोग्राफी करने के लिए तकनीक, कौशल और प्रैक्टिस की आवश्कता होती है। जैसे कि समुद्र तट या नाइटस्कोप में टिमटिमाते हुए सिटी लाइटस की तस्वीर क्लिक करें। 
  • स्ट्रीट फोटोग्राफी आप किसी भी चीज़ को एक कहानी के तौर पर देखते है और उसे एक तस्वीर में उतार लेते है तो आप एक बहुत ही अच्छे स्ट्रीट फोटोग्राफी बन सकते है। जैसे कि सड़क किनारे एक छोटी सी टी स्टॉल के बाहर बैठा बुढ़े आदमी को एक कहानी के तौर पर देखते है, वर्षों से ढहती एक जर्जर इमारत। यही स्किल आपको अच्छे स्ट्रीट फोटोग्राफर बना सकती है। 
  • पोर्ट्रेट फोटोग्राफी– इस फोटोग्राफी के लिए आपको व्यक्ति के चेहरे को पढ़ना आना चाहिए। उस व्यक्ति का चेहरे पर खुशी और दर्द भाव की गहराई को समझना और उसका अनुभव करना आना चाहिए। तभी आपके फोटोग्राफी में उनके भाव झलकेगें। 
  • मैक्रो फोटोग्राफी– यह फोटोग्राफी काफी चुनौती से भरा है, क्योंकि मैक्रो फोटोग्राफी 90 प्रतिशत मन की आंखों और फिर कैमरे के लेंल द्वारा की जाती है। इस फोटोग्राफी में एसी चीजों की फोटो क्लिक करना होता है जो आप अपने खुली आंखों से भी नहीं  दिखता है, उसे आपको कैमरे में कैद करनी होती है। मैक्रो फोटोग्राफी करने के लिए आपको समय की अच्छी जानकारी होना अवशयक है। 

फोटोग्रॉफी करते वक्त इन बातों का ध्यान रखना जरूरी है

लाईट्स– फोटो की खुबसुरती छिपी होती है उसकी लाईट्स में। फोटोग्रॉफी के लिए आपको लाईट्स का नॉलेज होना जरूरी है। तेज धूप या तेज रोशनी पोट्रेट फोटोग्रॉफी के लिए सही नही मानी जाती है जबकि लैंडस्केप फोटोग्रॉफी के लिए कम रोशनी के खराब होती है। जिस चीज की फोटो खिंचनी है उस पर लाईट अच्छे से पड़ना जरूरी है। अगर आप खुले स्थान पर फोटोग्रॉफी करना चाहते है तो दिन का वो समय चुनना चाहिए जब मध्यम रोशनी हो।

फ्रेम कंपोजिशन– लाईट्स के बाद दूसरी सबसे महत्वपूर्ण बात ध्यान रखनी है वो है फ्रेम कंपोजिशन। अपने फ्रेम ऑब्जेक्ट के अलावा ज्यादा चीजों को नही रखें इससे मुख्य विषय भटकेगा और आप जो दिखाना चाह रहे थे वो बाकी चीजों के बीच छिप जाएगा। फोटो की सुन्दरता के लिए ये जरूरी है कि आपकी फ्रेम में सिर्फ सब्जेक्ट ही हो क्योंकि अनावश्यक चीजें आपकी फोटो को खराब कर सकती है।

लॉ ऑफ थर्ड– इसके अनुसार फ्रेम को हमेशा लम्बवत और समानांतर की मदद से तीन हिस्सों में विभाजित करें और हमारे सब्जेक के मैन हिस्से को वहां रखे जहां वे रेखाएं एक-दूसरे को काट रही हो।

अन्य टुल्स– सिमिट्री, कर्व, टैक्सचर और रंगों की पहचान, आपकी फोटोग्रफी में चार चांद लगा देंगे। जैसे कि एक लकड़ी का टैक्सचर, सूरज के रंग आदि आपके फोटो को काफी सुंदर बना देती है। 

कैमरें के तीन मूल फंक्शन होते है– 

  1. शटर स्पीड : शटर वह छोटी-सी स्क्रीन है जो इमेज सैंसर पर तेजी से घूमती है और सैकेंड के कुछ हिस्से के लिए सैंसर पर रोशनी पड़ने देती है। जितनी अधिक देर तक शटर सैंसर पर रोशनी पड़ने देगा फोटो उतनी ज्यादा रोशन होगी। काली या धुँधली फोटो तब आती है जब शटर बहुत तेजी से घूमता है। सैंसर पर जितनी देर तक रोशनी पड़ती है, उसे ही शटर स्पीड कहते हैं जिसे सैकेंड के हिस्सों में नापा जाता है। 1/3 वें सैकेंड वाली शटर स्पीड से सैंसर पर 1/300 वें सैकेंड की शटर स्पीड की तुलना में अधिक रोशनी पड़ेगी जिससे अधिक साफ फोटो मिलेगी। यदि आप कम रोशनी में फोटो ले रहे हैं तो आप धीमी शटर स्पीड का इस्तेमाल कर सकते हैं। 
  2. एपर्चर : फोटो सैंसिटिव मैटीरियल पर पड़ने वाली रोशनी की मात्रा को एपर्चर नियन्त्रित करता है। यदि उपलब्ध रोशनी कम है तो एपर्चर को अधिक खोलें और यदि धूप में हैं तो कम, ठीक अपनी आँखों की तरह। एपर्चर का आकार एफस्टॉप्स से मापा जाता है। एफ-22’ जैसे उच्च एफ-स्टॉप का अर्थ है कि एपर्चर का छिद्र बहुत छोटा है और एफ-5.6’ का अर्थ है कि एपर्चर खूब खुला है।
  3. फोकस :  लक्ष्य पर फोकस करने के लिए समय लें। हाथों को स्थिर रखें, नहीं तो धुँधली फोटो आएगी। शटर बटन को इस प्रकार आधा दबाएँ कि ऑटोमैटिक कैमरा लक्ष्य पर फोकस करे और फिर शूट कर लें। एकदम से फोटो न खींच लें। तेजी से हिलते लक्ष्य की फोटो खींचने के लिए अधिक समय दें। इसके लिए शटर स्पीड को एडजस्ट करें ताकि दृश्य की फोटो सही से कैमरे में कैद हो सके।

सैलरी कितनी मिलेगी-

इस फिल्ड में करियर की शुरूआत  करते वक्त आप 7000 से 10000 तर की कमाई कर सकते हैं। बाद में किसी संस्थान के सा जुड़ कर आप असानी से 5-8 लाख रुपए कमा सकते हैं। 

 फोटोग्राफी की परिक्षा के लिए तैयारी

  • फोटोग्राफी की बेसिक्स चीज़ो पर ध्यान दें।
  • क्रिएटिव स्किलस को मजबूत करें ।
  • असाइंमेंट बनाना आना चाहिए ।
  • परिक्षा में 90 मिनट में प्रश्न हल करने का समय मिलेगा। 
  • एक तस्वीर पर कम से कम 300 शब्द में कहानी लिखना सिखें। 
  • बड़े-बड़े  फोटोग्राफर का नाम पता होना चाहिए । 
  • तस्वीर देखते ही झट से बताना है की कौन सी तस्वीर है। 


यहां से कर सकते है फोटोग्रॉफी का कोर्स

  • एशियन एकेडमी ऑफ फिल्म एंड टेलीविज़न, दिल्ली।
  •  जे.जे. स्कूल ऑफ अप्लाइड आर्ट, मुंबई।
  • सेंट जेवियर्स कॉलेज, मुंबई।
  • फरग्युसन कॉलेज, पुणे।
  • ए.जे.के. मास कम्युनिकेशन सेंटर, जामिया मिलिया इस्लामिया, नई दिल्ली
  • दिल्ली स्कूल ऑफ फोटोग्रॉफी, दिल्ली
  • फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया, पुणे
  • नेशनल इस्टीट्यूट ऑफ फोटोग्राफी, मुंबई
  • इंडियन इंस्टीट्यूट फॉर डेवलपमेंट इन एजुकेशन एंड एडवांस्ड स्टडीज, अहमदाबाद

इस तरह के अन्य कोर्स के बारे में जांने के लिए, मापागुरु कोचिंग वेब्सायट में देखें

mapaguru logo

Leave a comment